WhatsApp Channel Join Now

11 गांव में सबसे ज्यादा चलने वाला बिजनेस | Village Business Ideas in Hindi

क्या आप ग्रामीण क्षेत्र में रहते हैं और ऐसे बिजनेस की तलाश कर रहे हैं जो गांव में रहकर शुरू किया जा सके? तो यकीन मानिये, आप सही जगह पर आए हैं। इस आर्टिकल में हम आपको ऐसे बिजनेस आइडियाज के बारे में बताएंगे जिन्हें आप अपने गांव में ही कम पैसे लगाकर शुरू कर सकते हैं और हर महीने जबरदस्त कमाई कर सकते हैं। आइए जानते हैं कि गांव में कौन सा बिजनेस करें।

gaon me kaun sa business shuru kare

Village Business Ideas in Hindi: भारत की लगभग 70% आबादी ग्रामीण क्षेत्रों में रहती है, जो मुख्य रूप से कृषि और पशुपालन में अपना योगदान देती है। हालाँकि, गांव में ऐसे बहुत से लोग हैं जो इन सबसे हटकर कोई नया व्यवसाय शुरू करना चाहते हैं, लेकिन उचित जानकारी और संसाधनों के अभाव में ऐसा नहीं कर पाते हैं। इसलिए अधिकतर लोग नौकरी की तलाश में शहरों की तरफ भागते हैं।

हालांकि, समय के साथ स्थितियों में सुधार हो रहा है और गांवों का विकास भी तेजी से हो रहा है। अब शहरों की तरह गांवों में भी बिजली, इंटरनेट, सड़क जैसी सुविधाएं हैं, जिससे नए लोगों के लिए अपना व्यवसाय स्थापित करने के अवसर पैदा हुए हैं।

अगर आप गांव में रहकर कोई बिजनेस शुरू करना चाहते हैं, लेकिन यह नहीं जानते कि गांव में कौन सा बिजनेस करना सही रहेगा तो इस ब्लॉग को अंत तक पढ़ें। इस आर्टिकल में हम आपको ऐसे ग्रामीण बिजनेस आइडिया के बारे में बताएंगे जिन्हें महज 20,000 रुपये के छोटे निवेश से शुरू कर महीने में लाखों की कमाई की जा सकती है।

गांव में कौन सा बिजनेस करें?

वैसे तो गांव में रहकर कई बिजनेस किए जा सकते हैं, लेकिन आज हम आपको ऐसे 11 बिजनेस आइडिया के बारे में बताने जा रहे हैं जो गांवों में सबसे ज्यादा चलते हैं।

आप इन बिजनेस को कम निवेश के साथ शुरू कर सकते हैं और हर महीने अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं। इनमें से कई बिजनेस ऐसे हैं जिन्हें आप अपने घर से ही चला सकते हैं। साथ ही जो लोग कहीं नौकरी करते हैं वे भी पार्ट टाइम में ये बिजनेस शुरू कर सकते हैं।

आइये जानते हैं कि गांव में कौन सा बिजनेस शुरू करें:

बिजनेस आइडियामहीने में संभावित कमाई
1. टेंट हाउस का बिजनेस₹15,000 – ₹20,000
2. पोल्ट्री फार्मिंग बिजनेस₹35,000 – ₹40,000
3. मछली पालन का बिजनेस₹25,000 – ₹30,000
4. मशरूम की खेती₹20,000 – ₹30,000
5. आटा चक्की का बिजनेस₹15,000 – ₹20,000
6. मोती की खेती₹30,000 – ₹50,000
7. खाद-बीज और कीटनाशक का बिजनेस₹15,000 – ₹25,000
8. जिम का बिजनेस₹30,000 – ₹50,000
9. मोबाइल रिपेयरिंग बिजनेस₹15,000 – ₹25,000
10. डिजिटल सेवा केंद्र खोलें₹15,000 – ₹20,000
11. रेडीमेड गारमेंट का बिज़नेस₹20,000 – ₹30,000

1. टेंट हाउस का बिजनेस

अगर आप नौकरी के साथ कोई बिजनेस शुरू करने की सोच रहे हैं तो टेंट हाउस बिजनेस आपके लिए उपयुक्त रहेगा। इस बिजनेस को आप नौकरी करते हुए ही पार्ट टाइम जॉब के रूप में कर सकते हैं।

हर गांव में शादी-ब्याह, धार्मिक समारोह, राजनीतिक कार्यक्रम और अन्य फंक्शन होते ही रहते हैं, जिसके लिए टेंट की जरुरत पड़ती है। इस कारण इस बिजनेस में सफलता की सम्भावना ज्यादा है।

इस व्यवसाय को शुरू करने के लिए आपको शामियाना, साउंड बॉक्स सिस्टम, बर्तन, टेबल, कुर्सी, पंखा, रस्सी और बांस खरीदने पर खर्च करना होगा, जिसके लिए आपको लगभग 2 लाख रुपये का निवेश करना होगा। यह एकमुश्त निवेश है, जिसके बाद आप इस टेंट हाउस को 10 से 15 सालों तक चला सकते हैं।

यह एक ऐसा बिजनेस है जिसे आप अपने घर से शुरू कर सकते हैं। अगर आपके घर में कोई कमरा खाली है तो आप टेंट हाउस का सारा सामान वहां रख सकते हैं। अन्यथा किराये पर कमरा लेकर भी ऐसा किया जा सकता है, लेकिन इससे प्रोजेक्ट लागत बढ़ जाएगी।

टेंट हाउस बिजनेस से अनुमानित 1.5 से 2 लाख रुपये तक की वार्षिक आय अर्जित की जा सकती है। बशर्ते, आपको नियमित ऑर्डर मिलते रहें और आपकी सर्विस अच्छी हो।

2. पोल्ट्री फार्मिंग बिजनेस

अगर आपके पास थोड़ी खाली ज़मीन उपलब्ध है तो आप पोल्ट्री फार्म का बिजनेस यानी मुर्गी पालन शुरू कर सकते हैं। आप इस बिजनेस को कम निवेश में शुरू कर सकते हैं और बड़ा मुनाफा कमा सकते हैं।

मुर्गी पालन के बिजनेस को शुरू करने के लिए आपके पास इतनी जगह होनी चाहिए जहां पर आप कम से कम 1000 मुर्गियों को रख सकें। पोल्ट्री फार्म को बनाने के लिए आपको करीब 1000 से 1200 वर्ग फुट जगह की आवश्यकता पड़ेगी। साथ ही में मुर्गियों को रखने के लिए शेड का निर्माण करना होगा, जहां पर वे सुरक्षित रहे। इसके अलावा चिक्स खरीद, चारा, पानी, दवा, बिजली और ट्रांसपोर्टेशन पर भी आपको निवेश करना होगा।

1000 ब्रॉयलर चूज़े खरीदने पर आपको लगभग 30,000 रुपये से 40,000 रुपये तक का खर्च आ सकता है। हालांकि, ये दरें मांग के अनुसार ऊपर-नीचे होती रहती हैं। कुल मिलाकर 1 लाख रुपये तक निवेश कर आप पोल्ट्री फार्मिंग बिजनेस की शुरुआत कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें: मुर्गी पालन का बिजनेस कैसे शुरू करें

मुर्गी पालन व्यवसाय का एक फायदा यह है कि आप न केवल मुर्गियां बेचकर पैसा कमाते हैं, बल्कि आप उनके अंडे बेचकर भी पैसा कमा सकते हैं। एक स्वस्थ एवं जवान मुर्गी 20 सप्ताह में अंडे देना शुरू कर देती है। अच्छी नस्ल की पोल्ट्री मुर्गी साल भर में लगभग 300 से 310 अंडे तक दे सकती है।

अगर आपके पास पोल्ट्री फार्मिंग का बिजनेस शुरू करने के लिए पर्याप्त धनराशि नहीं है तो आप नाबार्ड से लोन भी प्राप्त कर सकते हैं, जिसमे आपको सरकार की तरफ से 25% सब्सिडी भी मिलेगी। इस बिजनेस से आप हर महीने 35,000 से 40,000 रुपए तक की कमाई कर सकते हैं। जैसे-जैसे आपका बिजनेस बड़ा होगा मुनाफा भी बढ़ने लगेगा।

3. मछली पालन का बिजनेस

गांव में मछली पालन का बिजनेस करना काफी लाभदायक साबित हो सकता है. चूंकि गांव में लोगों के पास काफी खाली जमीन उपलब्ध होती है, इसलिए यह बिजनेस करना आसान हो जाता है। बहुत से लोग पारंपरिक खेती के साथ-साथ मछली पालन का व्यवसाय भी कर रहे हैं और यह उनके लिए फायदेमंद साबित होता दिख रहा है।

आप एक तालाब बनवाकर छोटे स्तर पर मछली पालन का व्यवसाय शुरू कर सकते हैं। जिसमें आप अलग-अलग तरह की मछलियां पाल सकते हैं. मछलियों की कुछ प्रमुख प्रजातियाँ जिनकी बाज़ार में अत्यधिक मांग है वे हैं – रोहू, कतला, मृगल, सिल्वर कार्प, कॉमन कार्प आदि। बाजार में इन मछलियों की डिमांड हमेशा रहती है, जिस कारण आपको रेट भी ठीक-ठाक मिल जाता है।

आप मछली के बीज किसी भी नामी हैचरी से, या किसी ऐसे मछली किसान से खरीद सकते हैं जो पहले से ही इस बिजनेस में काम कर रहा हो। तालाब में मछली के बीज डालने के तकरीबन 3 से 5 महीनों के अंदर यह पूरी तरह से तैयार हो जाती है। जिसके बाद आप इन्हें निकालकर 300-400 रुपए प्रति किलो की दर पर बेच सकते हैं।

मछली पालन के बिजनेस को छोटे स्तर पर शुरू करने में आपको 1 लाख रुपये तक का खर्च आ सकता है. जिसमें तालाब का निर्माण, मछली के बीज, मछली के लिए चारा और दवा शामिल है।

यदि आप इस बिजनेस में बिल्कुल नए हैं तो आप मछली पालन प्रशिक्षण केंद्र की तरफ रुख कर सकते हैं। इस प्रकार के केंद्र सरकारी और निजी दोनों तरह के उपलब्ध हैं जहां आपको मछली पालन के बारे में सारी जानकारी दी जाती है।

भारत सरकार द्वारा भी मछली पालन को बढ़ावा दिया जा रहा है। देश में मछली पालन उद्योग को बढ़ावा देने के लिए प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना की शुरुआत की गई है। इस योजना के तहत मछली पालन शुरू करने वाली अनुसूचित जाति की महिलाओं को 60% सब्सिडी और सामान्य वर्ग की महिलाओं को 40% सरकारी सब्सिडी प्रदान की जाती है। अगर आपको भी एग्री सेक्टर में रूचि है तो मछली पालन का कारोबार शुरू कर हर महीने अच्छी कमाई करें।

4. मशरूम की खेती

मशरूम एक हाई प्रोटीन फूड है, जो अपने स्वाद और पौष्टिकता के कारण लोगों के बीच काफी प्रसिद्ध है। शाकाहारियों के लिए तो यह एक वरदान है। मशरूम वर्षों से अपने औषधीय लाभों के लिए जाना जाता है, जिसमें एंटी-बैक्टीरियल, एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट गुण शामिल हैं।

पिछले कुछ सालों से हमारे देश में मशरूम की मांग में भारी बढ़ोतरी दर्ज की गयी है। पहले इसकी मांग केवल शहरों तक ही सीमित थी, लेकिन आजकल गांवों और कस्बों में भी इसकी डिमांड बढ़ रही है। मशरूम की इसी मांग को देखते हुए इसकी खेती करना लाभदायक साबित हो सकता है।

इस बिजनेस को आप कम पूंजी लगाकर एक छोटे कमरे या झोपड़ी से शुरू कर सकते हैं। कमरा ऐसा होना चाहिए जिसमें पर्याप्त मात्रा में धूप आती हो और हवा में नमी हो। क्योंकि, मशरूम एक प्रकार का कवक है जो नमी वाली जगहों पर तेजी से उगते हैं।

मशरूम के स्पॉन लगाने के बाद तकरीबन 45 दिनों में यह कटाई के लिए तैयार हो जाते हैं।

वैसे तो बाजार में कई तरह के मशरूम उपलब्ध हैं, लेकिन अच्छा पैसा कमाने के लिए सफेद बटन मशरूम, ऑयस्टर मशरूम, मिल्की मशरूम, पैडी स्ट्रॉ मशरूम और शिटाके मशरूम उगाये।

मशरूम उनकी किस्म के आधार पर 100 रुपये से 500 रुपये प्रति किलोग्राम की दर से बेचे जाते हैं। खेती के लिए मशरूम की ऐसी किस्मों का चयन करें जो कम समय में अधिक मुनाफा देती हों। इसके साथ ही ऐसी किस्मों की खेती करें, जिनकी डिमांड आपके नजदीकी बाजार में अधिक मात्रा में हो।

भारत सरकार भी मशरूम की खेती को बढ़ावा दे रही है और इसके लिए किसानों को 90 फीसदी तक सब्सिडी भी दी जा रही है. साथ ही अगर आप इस क्षेत्र में बिल्कुल नए हैं तो मशरूम उगाने का प्रशिक्षण भी ले सकते हैं. आप अपने जिले में मौजूद कृषि विश्वविद्यालयों और कृषि अनुसंधान केंद्रों पर जाकर इसके प्रशिक्षण के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

अगर आप गांव में एक ऐसा बिजनेस स्टार्ट करना चाहते हैं जिससे कम समय में ज़्यादा कमाई की जा सके, तो मशरूम की खेती शुरू करें। छोटे स्तर पर मशरूम की खेती करने में 30,000 रूपए तक की लागत आ सकती है। मशरूम तैयार हो जाने के बाद आप इसकी सप्लाई अपने आसपास के गांव तथा शहरों में कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें: मशरूम की खेती कैसे शुरू करें?

5. आटा चक्की का बिजनेस

आटा चक्की एक ऐसा बिजनेस है जो कभी बंद नहीं होगा, क्योंकि हर किसी को भोजन की आवश्यकता होती है। खाद्य पदार्थों में मिलावट की समस्या को देखते हुए अधिकांश लोग आजकल गेहूं तथा अन्य अनाज को पिसवाने के लिए बाजार ले जाते हैं। इससे इस सेक्टर में मुनाफे की संभावनाएं बढ़ी हैं।

यदि आप गांव में आटा चक्की लगाते हैं तो आप उन सभी लोगों को अपना ग्राहक बना सकते हैं जो पिसा हुआ आटा खाना पसंद करते हैं। आटा चक्की की दुकान ऐसी जगह पर खोलें जहां लोगों की आवाजाही अधिक हो, जिससे आपके पास काम की कमी न हो। इस व्यवसाय को कृषि भूमि के पास भी शुरू करना बेहतर होगा, क्योंकि बहुत से किसान अपनी फसल को पिसवा कर मार्केट में बेचने का काम करते हैं।

आप चाहे तो खुद से भी पिसा हुआ आटा बेचने का काम कर सकते हैं। आजकल मार्केट में मल्टीग्रेन आटे की बहुत डिमांड है, इसके लिए गेहूं, बाजरा, ज्वार, मक्का, रागी, चना, दालें जैसे अनाजों को सही अनुपात में चक्की में पीसकर आटा बनाकर बेचा जा सकता है। इसके अलावा आप मसाला पीसने की मशीन लगाकर तरह-तरह के मसाले भी बना सकते हैं। जिससे आप दोनों प्रकार के ग्राहकों को सेवा दे पाएंगे।

इस बिजनेस के सेटअप के लिए ज़्यादा जगह की आवश्यकता नहीं पड़ती, आप इसे छोटे स्तर पर 10×10 के एक कमरे से शुरू कर सकते हैं।

अगर आप छोटे पैमाने पर आटा चक्की का बिजनेस शुरू करते हैं तो आपको लाइसेंस और रजिस्ट्रेशन की जरूरत नहीं है. हालाँकि, बड़े पैमाने पर आटा मिल लगाने के लिए आपको ट्रेड लाइसेंस और जीएसटी रजिस्ट्रेशन की आवश्यकता होगी।

आटा चक्की के बिजनेस को शुरू करने के लिए आपको मशीन से लेकर अन्य जरूरी सामान खरीदने के लिए तकरीबन 50,000 से 1 लाख रुपए तक खर्च करने होंगे। हालाँकि, यह निवेश आपको सिर्फ एक बार करना होगा, उसके बाद आपको इस बिजनेस से मुनाफा ही मिलेगा।

6. मोती की खेती करें

घरेलू बाजार के साथ-साथ अंतरराष्ट्रीय बाजार में भी मोती की मांग तेजी से बढ़ रही है। पहले मोती समुद्र की गहराई से निकाले जाते थे, लेकिन अब छोटे तालाबों और टैंकों की मदद से इसकी खेती बड़े पैमाने पर की जाती है।

मोती की खेती (Pearl Farming) से होने वाले भारी मुनाफे को देख बहुत से किसान इसकी तरफ अपनी दिलचस्पी दिखा रहे हैं।

ऐसे बहुत से किसान जो अभी तक सिर्फ अनाज, फलों और सब्ज़ियों की खेती करते थे, वो बड़ा मुनाफा कमाने के लिए मोती की खेती करने लगे हैं।

मोती की खेती करने के लिए ज्यादा निवेश करने की आवश्यकता नहीं पड़ती, आप इसे सिर्फ 30,000 रु के छोटे से निवेश से शुरू कर सकते हैं और 2-3 लाख रूपए तक की कमाई कर सकते हैं।

इस बिजनेस को सेटअप करने के लिए आपको एक तालाब खोदना होगा जिसमें आप सीप डालेंगे. इसके लिए करीब 500 वर्ग मीटर जगह की आवश्यकता होगी. अगर आपके पास तालाब खोदने की जगह नहीं है तो आप बायोफ्लॉक टैंक की मदद से भी इसकी शुरुआत कर सकते हैं।

सीपों को तालाब में डालने के बाद उन्हें पूरी तरह से तैयार होने में लगभग 15 से 20 महीने का समय लगता है। उसके बाद सीपों से मोती निकालने की प्रक्रिया शुरू की जाती है।

हरेक सीप के अंदर से दो मोती निकलते हैं। आमतौर पर बाजार में एक मोती की कीमत 200 रुपये से लेकर 500 रुपये तक होती है। मान लीजिये अगर आप 500 सीप तालाब में पालते हैं, तो तैयार होने के बाद आप इस स्टॉक से लगभग 2 लाख रुपये से 5 लाख रुपये तक कमा सकते हैं।

मोती की खेती के लिए कई सरकारी और निजी संस्थानों द्वारा प्रशिक्षण प्रदान किया जाता है। यदि आप इस व्यवसाय में रुचि रखते हैं तो आप इन प्रशिक्षण कार्यक्रमों से जुड़कर पर्ल फार्मिंग के बारे में सीख सकते हैं।

7. खाद-बीज और कीटनाशक का बिजनेस

अगर आप गांव में रहकर कम जोखिम वाला बिजनेस शुरू करना चाहते हैं तो खाद, बीज और कीटनाशकों की दुकान खोल सकते हैं। यह बिजनेस गांव के लिए बिल्कुल सही है।

दरअसल, गांव में किसानों को खेती के लिए समय-समय पर खाद और बीज की काफी जरूरत पड़ती है। जिसके लिए उन्हें गांव से दूर शहर जाना पड़ता है, इससे उनका समय और पैसा दोनों बर्बाद होता है।

अगर आप अपने गांव में खाद और बीज की दुकान खोलेंगे तो किसानों को उनकी जरूरत का सामान आसानी से मिल जाएगा और आप भी अच्छा पैसा कमा पाएंगे। सिर्फ अपने गांव में ही क्यों, आप अपने आसपास के दूसरे गांवों में भी अपना प्रोडक्ट सप्लाई कर सकते हैं।

खाद और बीज का व्यवसाय शुरू करने के लिए आपको लाइसेंस प्राप्त करना होगा। कृषि विभाग इच्छुक किसानों को ऑनलाइन और ऑफलाइन माध्यम से उर्वरक और कीटनाशक बेचने के लिए लाइसेंस जारी करती है। लाइसेंस के लिए आवेदन करने हेतु आप जिला कृषि कार्यालय या फिर नजदीकी कॉमन सर्विस सेंटर पर जा सकते हैं। आवेदन के सत्यापन के बाद कृषि विभाग द्वारा लगभग एक माह के भीतर लाभार्थी को लाइसेंस जारी कर दिया जाता है.

इस बिजनेस को छोटे स्तर पर शुरू करने के लिए करीब 5 से 10 लाख रुपये का निवेश करना होगा। आप चाहें तो इसके लिए लोन भी ले सकते हैं, कई सरकारी बैंक कृषि आधारित बिजनेस के लिए लोन देते हैं।

हालांकि, इस बिजनेस को सफल बनाने के लिए आपको मार्केटिंग पर ध्यान देना होगा। आपको अपनी दुकान का प्रचार अपने गांव के साथ-साथ आसपास के गांवों और कस्बों में भी करना होगा, ताकि आपकी बिक्री ज्यादा हो सके। इसके साथ ही ग्राहकों को अच्छी गुणवत्ता वाले खाद, बीज और कीटनाशक उपलब्ध कराने होंगे।

8. जिम का बिजनेस

आजकल जिम का क्रेज़ शहरों की तरह ही गांव में भी काफी बढ़ गया है। बदलते समय के साथ लोग अपने लाइफस्टाइल के प्रति बहुत जागरूक हो गए हैं और अच्छा दिखने के लिए एक्सरसाइज करने पर ध्यान दे रहे हैं। युवा पीढ़ी तो हर महीने अपने फिटनेस के ऊपर हज़ारो रूपए खर्च कर रही है, ऐसे में आये दिन जिम की संख्या में बढ़ोतरी देखी जा रही है।

अगर आपके गांव में जिम उपलब्ध नहीं तो आप जिम खोलकर हर महीने अच्छे पैसे कमा सकते हैं। यह एक सदाबहार बिजनेस है, जो साल के 12 महीने चलता है। जिससे आपको हर महीने कमाई होती रहती है।

इस बिजनेस की सबसे अच्छी बात यह है कि इसमें एक बार पैसा लगाकर सालोसाल कमाई की जा सकती है। एक्सपर्ट्स के अनुसार, भारत में एक जिम खोलने के लिए करीब 5 लाख से 10 लाख रूपए तक का निवेश करना पड़ सकता है।

जिम मुख्यतः दो तरह के होते हैं, पहला है वेट ट्रेनिंग तथा कार्डिओ वाला जिम और दूसरा है फिटनेस सेंटर जहाँ पर योगा, एरोबिक्स, वजन घटाना, वजन बढ़ाना जैसी चीज़े सिखाई जाती है। गांव के नज़रिये से देखें तो वेट ट्रेनिंग तथा कार्डिओ वाला जिम ज्यादा मुनासिब रहेगा।

जिम ऐसी जगह पर खोलें जहाँ पर आपके ग्राहकों को आने में कोई परेशानी न हो, साथ ही पार्किंग की सुविधा भी उपलब्ध हो। एक छोटा जिम खोलने के लिए करीब 500 स्क्वायर फीट जगह की जरुरत पड़ेगी। जहाँ पर आप जिम की सभी मशीनें रख पाएं और लोगों को एक्सरसाइज करने में कोई दिक्कत न हो।

भारत में जिम खोलने के लिए आपको एक प्राइवेट लिमिटेड फर्म लाइसेंस और पुलिस NOC की आवश्यकता पड़ेगी। इस लाइसेंस के लिए आप चाहे तो ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं या अपने जिले के उद्योग विभाग के कार्यालय में जाकर भी आवेदन दे सकते हैं।

जिम बिजनेस में मुनाफे की संभावना बहुत ज्यादा है. आमतौर पर जिम की मासिक फीस 1000 रुपये से शुरू होती है. इस हिसाब से अगर आपके जिम में नियमित रूप से 100 लोग आते हैं तो आप महीने में एक लाख रुपये कमा सकते हैं।

ये भी पढ़ें: जिम का बिजनेस कैसे शुरू करें

9. मोबाइल रिपेयरिंग बिजनेस

आजकल हर किसी के पास मोबाइल फोन है, यह हमारी जिंदगी का अहम हिस्सा बन गया है। आंकड़ों के मुताबिक, भारत में 1.2 बिलियन से ज्यादा मोबाइल फोन यूजर्स हैं, जो आने वाले समय में और भी बढ़ने की उम्मीद है।

लोग घंटो-घंटो तक मोबाइल फोन का इस्तेमाल करते हैं, और मशीनरी चीज होने के कारण वह खराब हो जाते हैं। जिस वजह से इसे रिपेयर करवाना पड़ता है, क्यूंकि हर बार नया मोबाइल नहीं खरीदा जा सकता है। ऐसे में अगर आप मोबाइल रिपेयरिंग की दुकान खोलते हैं तो इससे आपको काफी फायदा होगा।

यह व्यवसाय छोटे गांवों और कस्बों में काफी प्रचलित है। अक्सर गांव में रहने वाले लोग अपने मोबाइल को रिपेयर कराने के लिए शहर जाते हैं, ऐसे में अगर आप अपने गांव में ही मोबाइल रिपेयरिंग की दुकान खोलेंगे तो आप उन सभी ग्राहकों को टारगेट कर पाएंगे। मौजूदा दौर में इस बिजनेस की डिमांड सबसे ज्यादा है और इसके लिए कोई डिग्री की आवश्यकता नहीं होती।

यह एक स्किल बेस्ड बिजनेस है और इसे शुरू करने के लिए आपको मोबाइल रिपेयरिंग का कोर्स करना होगा, जो लगभग 3 महीने में पूरा हो जाता है। आप किसी अच्छे इंस्टीट्यूट में एडमिशन लेकर इसे सीख सकते हैं और अनुभव हासिल करने के बाद अपनी खुद की मोबाइल रिपेयरिंग शॉप खोल सकते हैं।

यह एक ऐसा बिजनेस है जिसे आप अपने घर से ही चला सकते हैं। यदि आपके घर में एक खाली कमरा है तो आप अपना रिपेयरिंग सेटअप वहां स्थापित कर सकते हैं। इसके अलावा मार्केट वाले एरिया में किराये पर दुकान लेकर भी इसे शुरू किया जा सकता है।

इस बिजनेस में ज़्यादा निवेश करने की आवश्यकता नहीं पड़ती है, आपको बस 8 से 10 हज़ार रूपए का रिपेयरिंग टूल खरीदना होगा। इसके बाद आप हर महीने 15 से 20 हजार रूपए तक कमा सकते हैं। अगर आपके पास कस्टमर अधिक संख्या में आते हैं तो कमाई का आंकड़ा और भी बढ़ सकता है।

10. डिजिटल सेवा केंद्र खोलें

अगर आप 12वीं पास हैं और कंप्यूटर की बेसिक नॉलेज है तो आप अपना खुद का डिजिटल सेवा केंद्र खोल सकते हैं। इसे आम बोलचाल में कॉमन सर्विस सेंटर (CSC) के नाम से भी जाना जाता है। ग्रामीण और सुदूर इलाकों में ऐसे केंद्र खोलकर आप नागरिकों को ई-गवर्नेंस और व्यावसायिक सेवाएं प्रदान कर सकते हैं।

डिजिटल सेवा केंद्र के माध्यम से लोगों तक ई-गवर्नेंस, बैंकिंग, शिक्षा, बिल भुगतान, स्वास्थ्य देखभाल और पेंशन आदि सेवाएं पहुंचाई जाती हैं। इसके अलावा इन केंद्रों पर ग्राहकों को पैन कार्ड, आधार कार्ड, वोटर कार्ड, आय प्रमाण पत्र, निवास/जाति प्रमाण पत्र, खसरा खतौनी, ट्रेन/एयरलाइंस टिकट बुकिंग जैसे दस्तावेज भी उपलब्ध कराए जाते हैं।

आप सीएससी ऑपरेटर बनकर लोगों को ये सभी सेवाएं प्रदान कर सकते हैं और हर महीने अच्छी कमाई कर सकते हैं। दरअसल, सरकार सीएससी संचालक को हर बैंकिंग ट्रांजैक्शन पर 11 रुपये देती है. इसके साथ ही ट्रेन, बस और फ्लाइट टिकट बुक करने पर आपको 20 रुपये तक का फायदा मिल सकता है।

डिजिटल सेवा केंद्र खोलने हेतु आपको www.csc.gov.in पर जाकर अपना रजिस्ट्रेशन करना होगा। इसके बाद आपको सीएससी आईडी और पासवर्ड प्राप्त होगा। एक बार सीएससी आईडी प्राप्त हो जाने के बाद आप अपना डिजिटल सेवा केंद्र खोल सकते हैं।

इसे खोलने के लिए लगभग 100 वर्ग मीटर की खाली जगह होनी चाहिए, जहां आप कंप्यूटर, टेबल, कुर्सी और काउंटर लगा सकें। इसके साथ ही आपके पास एक प्रिंटर और फ़ास्ट इंटरनेट कनेक्शन होना चाहिए। आप करीब 60 से 70 हजार रुपए का निवेश कर इस बिजनेस को शुरू कर सकते हैं।

11. रेडीमेड गारमेंट का बिज़नेस

अक्सर गांव-देहात में रहने वाले लोग कपड़े खरीदने के लिए पास के शहरों में जाते हैं। इसलिए, यदि आप अपने गांव में ही रेडीमेड गारमेंट की दुकान खोलते हैं तो आप इन सभी ग्राहकों को अपनी तरफ ला सकते हैं। चाहे शादी हो या कोई त्योहार, लोग हर वक्त कपड़ों की खरीदारी करते रहते हैं। इसलिए इस बिजनेस में मंदी आने की संभावना बहुत कम है.

रेडीमेड गारमेंट बिजनेस शुरू करने के लिए आपको ज्यादा निवेश की जरूरत नहीं है, इसे 20,000 रुपये का छोटा निवेश करके शुरू किया जा सकता है। आप किसी होलसेलर या थोक सप्लायर से कपड़ों का स्टॉक मंगवा सकते हैं और इसे अपनी दुकान में खुदरा दरों पर बेच सकते हैं।

आप अपनी दुकान में बच्चों, महिलाओं और पुरुषों के परिधान बेच सकते हैं। हालाँकि, शुरुआत में किसी एक कैटेगरी को चुनकर बिजनेस शुरू करना बेहतर होगा।

रेडीमेड गारमेंट बिजनेस में प्रॉफिट मार्जिन 30% से 60% तक होता है। अगर आप इस बिजनेस को सही तरीके से चलाएंगे तो आपको इसमें अच्छा मुनाफा मिल सकता है।

निष्कर्ष

तो दोस्तों, ये रहे गांव में सबसे ज्यादा चलने वाले बिजनेस आईडिया। अगर आप भी गांव में रहकर बिजनेस शुरू करने की सोच रहे हैं तो इन बिजनेस आइडिया में से कोई एक चुनकर अपना बिजनेस शुरू कर सकते हैं। इन सभी बिजनेस को आप कम पैसे लगाकर शुरू कर सकते हैं, जिससे भविष्य में भारी मुनाफा कमाया जा सकता है।

अगर आप भविष्य में ऐसे ही नए बिजनेस आइडिया के बारे में जानकारी चाहते हैं तो इस वेबसाइट को बुकमार्क कर लें।


Also Read: